उत्तरप्रदेशगोंडाबहराइचराजनीतिश्रावस्ती

यूपी चुनाव 2022:यहां इन सांसदों की हो रही विधायकी के चुनाव में अग्निपरीक्षा।

मुश्ताक अहमद (यूपी लाइव न्यूज)

गोंडा।इस समय का चुनाव भले ही विधानसभा का हो रहा हो,लेकिन अग्निपरीक्षा सांसदों को भी देनी पड़ रही है। इसी आधार पर अगले लोकसभा चुनाव में सांसदों का भी भविष्य तय होना है। अपने भविष्य की सुरक्षा व साख के लिए सांसद अपने दल के प्रत्याशी को जिताने के लिए एड़ी चोटी एक किए हुए हैं। पिछले चुनाव में कैसरगंज के सांसद ने इसको कर भी दिखाया। हालांकि इस चुनाव में उस सफलता को दोहराना उनके समक्ष भी बड़ी चुनौती होगी।

जिले में सात विधानसभा सीटें हैं। जबकि अवध क्षेत्र में 20 सीटें हैं। 2017 के चुनाव में 18 सीट भाजपा ने जीती थी। मोदी लहर में यह कारनामा कई सालों बाद अवध क्षेत्र में भाजपा करने में सफल रही। इसका श्रेय कैसरगंज सांसद बृजभूषण शरण सिंह ने लिया था। वजह भी रही,क्योंकि 23 फरवरी 2017 को जनसभा करने आए प्रधानमंत्री के मंच से सांसद ने अवध में जीत को लेकर अपना विजन रखा था। चुनाव परिणाम आने पर वह दिखा भी। इस बार सत्ता में रहते भाजपा सरकार का काम व विधायकों का रिपोर्ट कार्ड भी जनता के सामने है। कैसरगंज बृजभूषण शरण सिंह, गोंडा सांसद कुंवर कीर्तिवर्धन सिंह,बहराइच सांसद अक्षयवरलाल गोंड के सामने इस बार चुनौतियां जिटल हैं। इसकी कई वजह भी हैं। कैसरगंज सांसद सुबह से ही चुनाव प्रचार में लग जा रहे हैं। नामांकन के बाद से ही वे मंडल के चारों जिलों में प्रत्याशियों के पक्ष में वोटरों को गोलबंद करने के लिए लगे हुए हैं। बहराइच सांसद भी सातों सीटों पर प्रत्याशियों के साथ चुनावी मंच पर पहुंच रहे हैं। इसके बीच लोकसभा चुनाव में जिन लोगों ने टिकट की उम्मीद में सांसदों की चुनाव में मदद की थी,उनमें से कई बेटिकट हो गए हैं। ऐसे लोगों को आश्वासनों की घुटटी पिलाकर उनके आक्रोशों को शांत करने में लगे हुए हैं। जिन लोगों ने सांसदों की मदद नहीं कि उनको उनसे खतरा भी है। इसको लेकर भी हाईकमान तक सूचनाएं दी जा रही हैं। जिसका आंकलन चुनाव के बाद बूथवार मतों से किया जाएगा।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *